जायज (Legitimate)

(Kindly do not read the auto-translate version. It is possible that the meaning may change completely. The post has been translated in English below, by the author itself.)

बचपन से देख रही हूँ की आदमी और औरत पर जिम्मेदारियों का तराजू कभी बराबर नहीं रहता.
अगर आपने कभी किसी भारतीय नगर, कस्बे या मोहल्ले का सुबह सुबह, भ्रमण किया है तो एक बात ज़रूर नोटिस की होगी की, नहाये – धोये और बड़ी अच्छी तरह से प्रेस किये कपडे पहने, तेल लगे बालों में कंघी किये, भाईसाहबों की एक जमात है, जोकि किसी न किसी दुकान में बैठे नज़र आ जाती है. ये ज़रूरी नहीं की ये इनकी खुद की दुकान हो. किसी साथी भाईसाब की हो सकती है, कोई फार्मासिस्ट, चाय-नमकीन, सस्ता गल्ला या जूते वाला, और ठण्ड के दिनों में तो क्या ग़दर लगते है भाईसाब! मफलर, स्वाटर और चमचमाते जूते.
मैं सोचती थी की ये लोग घर में क्या बोल के आते होंगे,
“अजी सुनती हो, ज़रा नाश्ता ज़ल्दी लगा दो, आज मुझे डाक्टर की दुकान पर बैठने जाना है.”
मनो सारे मरीजों को ये ही देखने वाले हैं. और बातें कैसे शुरू होती होंगी इन लोगों की बाकि भाईसाब लोगों से.
“आज बहुत ठण्ड है, ज़रा चाय मंगाई जाये.”
भाईसाब ठण्ड है तो घर में रजाई के अंदर बैठो या बीवी की मदद कर दो थोडा काम निपटाने में, उस बेचारी को भी तो ठण्ड में कपडे और बर्तन धोने पड़ रहे है. “बड़ी ठण्ड है, बड़े आये!!!”

लेकिन उम्र के साथ मेरी चिढ इस आदमी नमक प्राणी से थोडा कम हुई है, मैंने कोशिश की, इस बात का पता लगाने की की आखिर ऐसी क्या बात है की भाईसाब को खली बैठना अखरता नहीं.
जी, बात बड़ी ही सिंपल है, ये सभ्यता की दें है, जो बेचारे भाई साहबों को जनम दे रही है. पुरा-प्राचीन काल में जब नर और नारी एक साथ परिवार की तरह रहने लगे तो आदमी का काम था की जंगल जाए और खाने का इंतज़ाम करे, और महिलाएं घर में बच्चों की देखभाल से लेकर साफ़ सफाई तक का सारा काम निपटा लेती. जंगले से शिकार कर लाने में बहुत मेहनत लगती थी.

अब धीरे धीरे हम लोग सभ्य हो चले हैं. अब साहब, जंगल तो रहे नहीं, नाही जादा जानवर बचे है. तो शिकार करने वाला ये आदमी करे तो क्या करे, उसका प्राकृतिक स्वभाव ही ऐसा है की वह घर में नहीं रह सकता. और बाहर तो ऐसे ही थोड़ी निकला जाता है तो ये साज श्रींगार जायज है.

Literally,

I have noticed since my childhood that, responsibilities have never been shared equally by Men and Women. If you happened to visit any India city or town or locality, you will find some nicely dressed, oiled, wearing ironed clothes, and properly combed haired Bhaisaabs (Bhaisaab, is a way to address Men, in general with respect, in Hindi speaking India) sitting around in local shops, doing absolutely nothing. It’s not important that whose shop it is… it could belong to anybody, any other Bhaisaab. It could be a pharmacist or a sweet shop, a ration shop or a shoe shop. But one will find these Bhaisaabs sitting nicely. And in winters, with the warm mufflers and shoes, they look even more charming.
As a kid I used to think, what they must be telling at home while finishing their nice breakfast.
“Hello jee (to their wives) please get the Chai (Tea) fast, I have to go and sit at doctor’s shop.”
As if all the patients are coming to see him only… Just wonder what would they talk to each other while standing at these shops, “It’s quite cold today, lets order some Chai.”
Bhaisaab if its so cold why don’t you go home and help finishing the house hold chores, your wife has to wash clothes and utensils in this cold, all by her.
But it took me some time to understand that discussing Cricket and Politics is a very important task for our developing country. And with the time my irritation with this creature called Man reduced a bit. I tried to understand the psychology behind this behavior. What could be the reason that these Bhaisaabs do not feel uncomfortable doing nothing, absolutely nothing, that to fully dress.
The reason happened to be very simple. It’s coming from the old age when human was still struggling to civilize. Man used to hunt and get food and woman used to do house hold chores and take care of the infants.
Now we have been civilized and there in no more need to go hunting and that’s why poor man does not know how to cope up with this. So dressing up and sitting at the shops and corners of the town make sense.

 

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s