Bhojpuri and Politics (भोजपुरी और राजनीती )

ये संभव है की आगे लिखी जाने वाली बातों में से कोई भी बात इसके शीर्षक पर न जाए. परन्तु पढ़ने वाले यदि इक रोमांचक घटना से दो- चार होना चाहते हैं तो आँखे गडाये रखें.

It is quite possible that the following text might not have any relation with it’s Title. But if the reader wishes to know of a very adventurous tale, keep reading.

मुंबई- जुलाई की भयानक बरसात
मैं लिंकिंग रोड बांद्रा के पास ट्रेफिक जाम में फँसी हुई हूँ.
मेरे चारो ओर खड़े लोग इतेजार में है की कहीं से थोडा आगे निकलने का मुका मिल जाए.

Mumbai- July- Raining cats and dogs
I am stuck in traffic jam somewhere close to linking road , Bandra.
Everyone around me is waiting for the next vehicle to move a little so they get a little space…

आमतौर पर मैं रिक्शा के  बायीं ओर हि बैठती हूँ, घुसने और उतरने में आसानी रहती है… मैंने अपनी दाईं ओर नोटिस किया इक कार ( जोकि स्कोर्पियो से थोड़ी छोटी और संत्रो से थोडा बड़ी थी) बड़े मज़े से हिले जा रही है. त्रफ्फिक थोडा आगे बढ़ा और कार थोडा आगे हो ली… सलेटी रंग चढ़े कांच…इक खाते पीते घर का आदमी नाचने कि कोशिश कार रहा है… हाथो को हवा में उठाये ज़ूम रहा है… त्रफ्फिक जाम कि वजह से फैले तनाव से उसका कोई लेना देना नहीं… मैं सोचा ” बड़ा गजब आदमी है यार”.

Normally I sit on the left side of rickshaw, it’s easy to get in and out… I noticed on my right, a car (smaller then Scorpio and bigger then Santro) is shaking … Traffic moves a little ahead and the car moves in front of me… Gray tinted glasses… one healthy man kind of dancing come shaking… his hands in the air… completely unaware of the tension of traffic jam outside…

मुझे लगा हो न हो ये ज़रूर कोई छेत्रीय कलाकार होगा जोकि अपने डांस कि तैय्यारी में लगा है… टीवी कलाकार या फिल्म अभिनेता…उसके कार से भोजपुरी सा लगने वाला कोई गाना सुने दे  रहा था… गाना इतना तेज कि चारों ओर के वाहनों कि चिल्लपों को धता बता दे.

I thought this guy must be some local tv actor or film actor since i could figure out from the tune, music being bhojpuri. I thought he is rehearsing or something….music was so loud that it actually gave a tough competition to the honking autos and cars.

मैं इस सब विचारों में मग्न थी कि त्रफ्फिक थोडा आगे बढ़ा… मैंने देखा कि कार के पिछवाड़े में वी आय पी लिखा है, और तिरंगे के बीच में इक राजनितिक प्रतीक मुझे टाटा कार रहा है.
मान गए भाई, अपने देश कि राजनीती… भय्या लोग नहीं पसंद लेकिन  भोजपुरी गाने पर तो सरे आम नाच हो जाये…

Then slowly the traffic moves and I see a V.I.P.  written on the back of car and a political hand with tricolour waving at me. Wow … Politics can dance in any tune at any time…i say

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s