कर्मण्ये वाधिकारस्ते…

I have tried to map the mind of those who have indulged into some wrong deeds.
A life where things are not so positive and future is not so bright.

गीता में लिखा है,
कर्मण्ये वाधिकारस्ते…
अब, रस्ते वालों के होते अधिकार,
तो क्यों खानी पड़ती इतनी मार.

सास्स्सारे अधिकार वाले पहले बनाते हैं रूल…
और रुलों से पहले उन्हें तोड़ने के उसूल.

उसूलों की बात है तो हम भी हैं उसूलों के पक्के,
बस आज की ही यारी है कल हक्के-बक्के.

गीता में लिखा है…
कर्मण्ये वाधिकारस्ते…

हर एक दिन बीतता है बचते- बचते
मेरे जैसे कई लोग मिलते हैं…
कुछ महंगे कुछ सस्ते.

बचपन में पढ़ा था, हफ्ता मतलब सात दिन
और बड़े होके पता चला हफ्ता मतलब पैसे गिन.

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s