ओपन mind

काफी दिनों से सोच रही की क्या रखा है इंग्लिश में… हालाकि बड़े दुःख की बात है की अपने देश में एक अंग्रेजी ही ऐसी भाषा है जो उत्तर को दक्षिण और पूरब को पश्चिम से जोड़े रखती है.
अभी अभी बहुत दिनों बाद घर आना हुआ तो लगा की चलो थोडा शांति मिलेगी… लेकिन मेरी मानो तो शांति किसी जगह से नहीं,  वहां के लोगो और आपकी वर्तमान परिस्तिथि पर निर्भर करती है…
मेरे प्रदेश में लोगो को लगता है की ओपन माएंडेड होना अच्छी बात है लेकिन उन्हें यह डर भी साथ – साथ सताते रहता है की अगर जादा ओपन माएंड हो गया तो दिमाग बाहर  निकल के ना आ जाये!! और फिर अगर वो दिमाग स्त्री जाती से सम्बंधित प्राणी का हो… तो गयी भैंस  पानी में…
तो फिर क्या करे! अरे ये भी कोई सोचने की बात है! नकेल डाल दो! और बना लो पालतू !
समाज में पशु- जानवरो को पालतू नहीं बनाया जाता! यहाँ पालतू होती हैं. मान्यताएं!
और उन मान्यताओ को चारा खिला खिला कर इतना मोटा कर दिया जाता है की सारे समाज को वे एक स्वस्थ आकर में दिखती हैं..
और स्वस्थ्य मतलब, अच्छाई, मतलब, सबको इस अच्छाई को स्वीकार करना चाहिए, (भेड़-चाल)
एक बार मैं पड़ोस के घर एक शादी में गयी थी… वहां बैठी मोती-पतली अंटियाँ दुल्हन को छोड़ कर बाकि सब लड़कियों को लुच्चों की तरह देख रही थी…
फिर अचानक से एक सायानी आंटी एक सुंदर सी लड़की की माँ से पूछ बैठी… आपकी दो लड़कियों की शादी तो टाइम से हो गयी… बड़ी खुश नसीब हो की सुंदर लड़कियां पाई हैं… जल्दी-जल्दी बिक्री हो गयी… (सच बताऊँ तो मेरा मन किया की एक लाफा मारूँ, कान  के नीचे).
मैं भी बाकि लोगों की तरह दन्त निपोर कर बहार आ गयी…
वैसे एक आंटी को लाफा मर के क्या फायदा. और पता नहीं लड़कियां भी क्यों ज़बरदस्ती बी एस सी, ऍम एस सी. शोर्ट हैण्ड, कंप्यूटर कोर्स (इन्टरनेट सीखने जा रहे हैं .. सच में ) कर के क्यों बैठी हैं…
हो सकता है की सब लोग ऐसा ही चाहते हैं…
और जादा पढ़ लिख कर मेरे ही दिमाग बहार आ गया है…

Advertisements

One thought on “ओपन mind”

  1. neha main tumhare vichaar aur anubhav se sau pratishat sahamat hoon…
    lekin un moti aantiyoun ko dosh dene se kya fayeda……
    ladkiyon main hi himaat aur badlav ki zaroorat…..
    ladkiya..ek acchi beti,bahu,behan aur maa banane ke chaakar main…apna mooh aur dimag dono band kar leti hain….
    aakhir kya paribhsaha hai..aacha kahlane ki…..???????????

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s